Mahaperiyava Padhuka Panchakam


Thanks to Sri T.G. Ranganathan for this share. I don’t recall seeing this great work before.  I don’t know who authored this.

Mahaperiyava-padhuka-mk.jpg

 

श्री काञ्ची परमाचार्य पादुका पञ्चकम्
         ஸ்ரீ காஞ்சீ பரமாசார்ய பாதுகா பஞ்சகம்
1. कोटि सूर्य समानाभां काञ्ची नगर चन्द्रिकाम् |
   கோடி சூர்ய ஸமாநாபாம் காஞ்சீ நகர சந்த்ரிகாம் |
    भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् |
   பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||
2. सकृत् स्मरण मात्रेण सर्वैश्वर्य प्रदायिनीम् |
   ஸக்ருத் ஸ்மரண மாத்ரேண ஸர்வைஶ்வர்ய ப்ரதாயினீம் |
    भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
   பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||
3. संसार ताप हरणीं जन्म दु:ख विनाशिनीम् |
  ஸம்ஸார தாப ஹரணீம் ஜன்ம து:க விநாஶினீம் |
   भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
  பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||
4. वैराग्य शान्ति निलयां विद्या विनय वर्धनीम् |
   வைராக்ய ஶாந்தி நிலயாம் வித்யா விநய வர்த்தனீம் |
   भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
   பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||
5. काञ्चीपुर महा क्षेत्रे कारुण्यामृत सागरीम् |
   காஞ்சீபுர மஹா க்ஷேத்ரே காருண்யாம்ருத ஸாகரீம் |
   भजामि सततं भक्त्या परमाचार्य पादुकाम् ||
  பஜாமி ஸததம் பக்த்யா பரமாசார்ய பாதுகாம் ||
6. पादुका पञ्चक स्तोत्रं य: पठेत् भक्तिमान् नर: |
   பாதுகா பஞ்சக ஸ்தோத்ரம் ய: படேத் பக்திமான் நர: |
   सर्वान् कामान् अवाप्नोति मुच्यते सर्व किल्बिषात् ||
  ஸர்வான் காமான் அவாப்நோதி முச்யதே ஸர்வ கில்பிஷாத் ||


Categories: Bookshelf

4 replies

  1. Jaya Jaya Sankara Hara Hara Sankara. Janakiraman. Nagapttinam

  2. Author’s name is One Sri Chandrasekar.

What do you think?

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: